मुख्य समाचार

DAINIKMAIL POLITICAL ALERT जालंधर के सांसद चौधरी संतोख सिंह स्टिंग में फंसे, चुनावी फंड के नाम पर ओबलीकेशन का दावा करते कैमरे में हुए कैद, कट सकती है टिकट, रिंकू और केपी में से एक होगा जालंधर से कैंडिडेट!

Published on 19 Mar, 2019 01:35 PM.

जालंधर के सांसद चौधरी संतोख सिंह स्टिंग ऑपरेशन में फंस गए हैं . चुनावी फंड के बदले में ओबलीकेशन का दावा करते हुए चौधरी कैमरे में कैद हो गए हैं . आर पब्लिक टीवी ने स्टिंग ऑपरेशन में दावा किया है कि जालंधर के सांसद चौधरी संतोख सिंह चुनावी फंड के लिए किसी भी तरह की ओबलीकेशन देने के लिए तैयार हो गए हालांकि इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद चौधरी संतोख सिंह ने इसे झूठा करार दिया है .उधर स्टिंग ऑपरेशन के बाद जालंधर की सियासत में जबरदस्त भूचाल आ गया है .सूत्रों की मानें तो चौधरी संतोख सिंह की टिकट कटनी तय हो गई है और अभी इस दौड़ में जालंधर बेस्ट से विधायक सुशील रिंकू और जालंधर के पूर्व सांसद मोहिंदर सिंह केपी रह गए हैं महेंद्र सिंह केपी पिछली बार होशियारपुर से चुनाव हार गए थे यदि केपी को टिकट नहीं मिली तो सुशील रिंकू को टिकट मिलना अब लगभग तय लग रहा है .पार्टी सूत्रों की मानें तो पहले से ही सर्वे में चौधरी संतोख सिंह कमजोर चल रहे थे .सर्वे में कैंडिडेट के तौर पर सुशील रिंकू सबसे आगे दिखाई दे रहे हैं और दूसरे नंबर पर महिंद्र केपी हैं हालांकि महिंद्र केपी दिल्ली में लॉबिंग कर चुके हैं मगर अब देखना यह होगा कि पिछली बार की तरह कहीं सुशील रिंकू फिर से उन्हें पछाड़कर टिकट ना ले आए. यह बता दे कि पार्टी युवा केंद्र पर विचार कर रही है जिसके चलते सुशील रिंकू खुद को प्रबल दावेदार के रूप में भी पेश कर रहे हैं. हालांकि सुशील रिंकू  कोई यदि टिकट नहीं मिली तो इसके पीछे एक ही वजह रहेगी की पार्टी जालंधर वैस्ट में उप चुनाव करवाने का रिस्क लेगी या नहीं .यदि पार्टी उपचुनाव में रुचि नहीं रखेगी तो उस हालत में सुशील रिंकू को टिकट नहीं मिलेगी यह सूरत में सीधा लाभ महिंद्र केपी को होगा पर यदि सर्वे के आधार पर दोनों नेताओं में मुकाबला हुआ तो फिलहाल सुशील रिंकू का पलड़ा भारी है

मुख्य समाचार