मुख्य समाचार

DAINIKMAIL EXPOSE अकाली नेताओ की जुंडली के कारण जालंधर की लेदर इंडस्ट्री पर फिर मंडरा सकते है खतरे के बादल, अकाली नेताओ ने साथ लगते गांव में काट दी इंडस्ट्री के लिए अवैध कॉलोनी, प्रदूषण मानकों की उड़ाई धज्जियां, निगम और जेडीए दोनों खामोश, हाईकोर्ट जाएगा मामला!

Published on 02 Mar, 2021 12:22 PM.

जालंधर की लेदर इंडस्ट्री प्रदूषण मानकों को लेकर हाई कोर्ट के आदेशों पर लंबे समय तक सीलिंग रही। आखिरकार डीसी जालंधर घनश्याम थौड़ी ने प्रदूषण हटाने के प्रोजेक्ट पर हाई कोर्ट में शपथ पत्र दाखिल किया तो राहत मिली। मगर अब अकाली नेताओ की जुंडली के कारण लेदर इंडस्ट्री पर फिर से खतरे के बादल मंडरा सकते है क्योंकि लेदर काम्प्लेक्स और स्पोर्ट्स सर्जिकल काम्प्लेक्स के साथ लगते गांव संगल सोहल में अकाली नेताओ की जुंडली ने इंडस्ट्री के लिए अवैध कॉलोनी काट दी है और धड़ाधड़ प्लाट बेचे जा रहे है। इस मामले में jda और निगम दोनों ही चुप्पी साधे हुए है क्योंकि इस कालोनी की शिकायत पर दोनों विभागों के अफसर शिकायतकर्ता को अपना इलाका न होने की बात कह कर टालते रहे है। मगर इस कॉलोनी में इंडस्ट्री के प्रदूषित पानी की निकासी के लिए कोई प्रबन्ध न किये जाने से आने वाले समय मे फिर से ड्रेन में केमिकल वाला पानी जाएगा। इस मामले में जालंधर के आईएएस अधिकारी करुणेश शर्मा भी कार्रवाई की बात कह चुके है मगर कार्रवाई की नही की गई। इस मामले में शिव सेना हिन्द के राष्ट्रीय युवा प्रधान इशांत शर्मा ने दावा किया है कि वो हाई कोर्ट में पटीशन दाखिल करने जा रहे है कि यदि यह कॉलोनी विकसित हो गयी तो आस पास के लोगो की सेहत के लिए मुसीबत हो जाएगी क्योकि यह सारा पानी जमीन में रिसेगा जिससे घातक बीमारिया फैलेंगी। इस आधार पर  अब कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी और इस कॉलोनी का काम रोका जाएगा। 

 

कांग्रेस के राज में अकालियों की मौज

संगल सोहल में कटी इस अवैध कॉलोनी में एक पुर्व अकाली प्रधान और एक आलू कारोबारी फ्रंट लाइनर बने हुए है जैसे ही करवायो का माहौल बनता है अकाली मैनेजमेंट कर लेते है मगर निगम और jda ने इस मामले में जो लापरवाही बरती है उससे लेदर कॉम्प्लेल्स और सर्जिकल काम्प्लेक्स के उद्योग के लिए फिर से खतरा पैदा हो सकता है क्योंकि हाई कोर्ट पहले से ही इस मामले में सख्त है। 

मुख्य समाचार