मुख्य समाचार

DAINIKMAIL EXPOSE जालंधर में सड़क 'चोरी' पूरी की पूरी सड़क गायब कर दी

Published on 04 Jul, 2019 08:46 PM.

आपने चीजें चोरी होती तो सुनी होंगी क्या कभी ऐसा सुना है कि पूरी की पूरी सड़क चोरी हो गई .यह खबर पढ़कर आपको कुछ ऐसा ही महसूस होगा जालंधर के निजातम नगर में पूरी की पूरी सड़क गायब हो गई है. यह सड़क किसने गायब की यह सबसे बड़ा सवाल है मगर हैरानी की बात है कि सड़क गायब होने पर कोई भी कुछ नहीं बोला क्योंकि सबको लग रहा था कि शायद सड़क बनाई जा रही है   मगर यहां तो सड़क बनाने के नाम पर सड़क उखाड़ दी गई और जब कई दिनों तक सड़क नहीं बनी तो पड़ताल शुरू हुई अब पता चला है कि इस सड़क की ई टेंडरिंग ही नहीं हुई है और ऐसे में एक कांट्रेक्टर ने बिना ठेका लिए पूरी की पूरी सड़क उखाड़ दी.यही नहीं कॉन्ट्रैक्टर ने निगम के जेई को बुलाकर लोगों के रैंप तोड़ने का काम शुरू कर दिया था मगर इससे पहले ही यह सवाल खड़ा हो गया है कि आखिरकार इस सड़क को कितने दिनों तक बनाया जाएगा मगर जो जवाब मिला वह हैरान करने लायक है कांट्रेक्टर ने सीधे तौर पर कह दिया उसके पास तो इस सड़क को बनाने का कॉन्ट्रैक्ट नहीं है  मगर यह सड़क उसने क्यों तोड़ी इसका जवाब नहीं दे पाया. यहां आपको बता दें कि कोई भी सड़क मंजूर होने पर नगर निगम में ईट की जाती है कम से कम तीन टैंडर भरते हैं जिसका दाम सबसे कम होता है उसे ठेका दिया जाता है. बताया जा रहा है कि यह करीब ₹19 लाख का है जो कि अभी तक खुला ही नहीं मगर फिर भी ठेकेदार ने यहां पर काम शुरू कर दिया और सड़क गायब कर दी.  अब जब सड़क बनाने का वक्त आया तो जवाब मिला कि उनके पास तो कांट्रैक्ट ही.  नहीं है यहां सबसे बड़ा सवाल है कि यदि निगम में ई टेंडरिंग होती है तो उस ठेकेदार को यह किसने कहा कि ठेका उसे ही मिलने वाला है और उसने बिना ठेके के यह सड़क कैसे उखाड़ दी. यहां बता दें कि लोकसभा चुनावों के दौरान 1 मई को यहां पर निजात्म नगर की मुख्य सड़क जो कि श्री निजाम नगर के अद्वैत स्वरूप आश्रम को जाती है उखाड़ दी गई.  यहां आश्रम होने के कारण भारी संख्या में लोग आते हैं जो कि पिछले लंबे समय से सड़क उखाड़े जाने के कारण परेशान हैं मगर अब बड़ा खुलासा हुआ है कि इस सड़क की तो टैंड्रिंग ही नहीं हुई है ऐसे में यह सड़क कांट्रेक्टर ने कैसे उखाड़ दी और उसे यह कैसे मालूम था यह कॉन्ट्रैक्ट उसे ही मिलने वाला है यह जांच का विषय हो गया है. कानूनी माहीरो के मुताबिक किसी भी सरकारी संपत्ति को इस तरीके से नुकसान नहीं पहुंचा जा सकता और यहां तो पूरी की पूरी सड़क गायब कर दी गई है. नगर निगम कमिश्नर ने पूरे मामले की रिपोर्ट तलब कर ली है अब देखना यह है कि नगर निगम कांट्रेक्टर के खिलाफ केस दर्ज करवाता है या नहीं . इसके साथ ही नगर निगम की टेंडरिंग प्रक्रिया पर भी सवाल खड़े हो गए हैं क्योंकि कोई इतना आश्वस्त कैसे हो सकता है कि यह ठेका उसे ही मिलने वाला है. ऐसे में यह जांच का विषय है इसके साथ ही उक्त कांट्रेक्टर को अब तक मिले सारे ठेके भी जांच के दायरे में आने चाहिए.इस संबंध में इलाके में ठेकेदार के साथ डिच लेकर पहुंचे जेई ने कहा कि उन्हें मालूम नहीं है कि ईटैंडरिंग हुई या नहीं. अब इस चुराई गई सड़क पर कांट्रैक्टर को कानूनी कार्रवाई से बचाने के लिए बीच का रास्ता खोजा जा रहा है. दैनिकमेल डाट काम के पास इस सड़क को अवैध रूप से गायब करने के सबूत भी मौजूद हैं.

मुख्य समाचार