मुख्य समाचार

DAINIKMAIL INSIDE STORY कनाडा स्टडी वीजा माफिया से एजेंट विवाद निपट कर भी उलझा, जालंधर में स्टूडेंट परख कर ले कॉलेजों में दाखिला, कही डूब न जाये जालंधर में छात्रों और एजेंटो के करोड़ो रूपये

Published on 13 Nov, 2020 08:03 PM.

दैनिकमेल, जालंधर 


कनाडा स्टडी वीजा के नाम पर अब एजेंटो को निशाना बनाने वाला कनाडा स्टडी वीजा माफिआ शहर के कई ट्रेवल एजेंटो के गले की फांस बन गया है क्योकि इस माफिआ में जालंधर के बस स्टैंड के पास के दो ट्रेवल एजेंट शामिल है जिन्होंने कनाडा में किराए की बिलिडिंग लेकर अपना कॉलेज शुरू किया है और 
साम दाम दंड भेद के साथ यह दो एजेंटो वाला कनाडा स्टडी वीजा माफिआ सभी एजेंटो को खुद के कॉलेज में दाखिला करवाने के लिए मजबूर कर रहे है और जो नहीं मानता उस पर पुलिस  शिकायत के साथ साथ बूस्ट कर वीडिओ वायरल करवा रहे है जिससे एजेंट दबाव में आ रहे है.

पुलिस शिकायते और विडिओ बूस्ट लगा बना रहे है दबाव 

बताया जा रहा है की इस माफिआ में जालंधर के बस स्टैंड के पास का एक नामी एजेंट भी शामिल है जो सस्ते दाम पर लोगो को विदेश भेजने वाले लोगो को अपना निशाना बना रहा है. उन पर दबाव बनाया जा रहा है की महंगे दामों पर ही कनाडा स्टडी वीजा का  पैकेज किया जाये और दाखिला उन्ही के कॉलेज में किया जाए. ऐसे में जब किसी दुसरे एजेंट से वीजा रेफ्यूस होने पर उक्त स्टूडेंट जब इस गैंग के एजेंट के पास जाता है तो वो उन्हें उक्त एजेंट के खिलाफ मीडिया में बोलने का लालच देते है और जैसे ही वो मीडिया में जाते है तो खेल शुरू हो जाता है. इसके बाद पंजाब के अलग अलग जिलों में पुलिस शिकायत करवा एजेंट पर समझौते का दबाव बनाया जाता है. ऐसा ही हाल ही में इस गैंग का विरोध करने वाले एक एजेंट के साथ किया गया है जिसे उक्त माफिआ के करीबी एजेंट जाल में फांस अपने साथ ले गए और बाद में ऐसा जाल फेंका की अब उक्त एजेंट के सामने कुआ है और पीछे खाई है. 


पहला शिकार फंसा अब अगले की तैयारी 

बताया जा रहा है की इस माफिया गैंग ने पहला शिकार फांस लिया है और अब अगले की तैयारी है क्योकि अब सबको एजेंटो को मस्सज भेज कर कहा जा रहा है की यदि इस माफिआ के कनाडा कॉलेज के अलावा दुसरे कॉलेज में बाकी एजेंटो ने दाखिला दित्य तो उनका भी यही हाल किया जाएगा। इस सरे खेल को एक ऐसा एजेंट चला रहा है जो कुछ सालो में अपनी कम्पनियो के क्र नाम बदल चूका है क्योकि एक कम्पनी बदनाम होने का बाद वो दूसरा नाम रख लेता है. इन दिनों इसकी तूती  टीवी मीडिआ और सोशल मीडिआ पर बोल रही है. 

एजेंटो को स्टूडेंट के करोड़ो डूबने का डर  

बताया जा रहा है की इस जुंडली में शामिल एक एजेंट की छवि खासी खराब है क्योकि वो कई कम्पनियो के नाम बदल चूका है और इस बार यह लोग कनाडा में कॉलेज खोल कर सभी छात्रों के दाखिले उन्ही के कॉलेज में दिलवाने के लिए एजेंटो को मजबूर कर रहे है. अब इस खेल में कॉलेज की फीस वीजा से पहले जाती है और अब लोक डाउन  के बाद हजारो दाखिले छात्रों ने लेने है क्योकि लम्बे समय से IELTS  बंद थी. इस सूरत में अब टेस्ट पास होने का बाद स्टूडेंट्स का फ्लो बढ़ने वाला है. इस लिए एजेंटो को डर  है की यदि इस जुंडली के कॉलेज में दाखिला लेकर फीस दे दी गयी तो यदि इन्होने किराये पर लिया कॉलेज बंद कर दिया और यहाँ से बोरिया बिस्तर समेट  लिया तो एजेंटो और स्टूडेंट्स के करोड़ो रूपये डूबने का डर है. इस बात की सम्भावना भी है की यदि वीजा न लगने पर स्टूडेंट्स ने रिफंड माँगा तो यह रिफंड न करे जिससे वीजा फ़ाइल प्रोसेस करने वाले एजेंट पर छात्र केस कर्ज करवा सकते है. इसलिए अब एजेंट एकजुट हो रहे है.

समझौते के तरीके से एजेंटो की एक लॉबी ने बगावत की तैयारी की 

पहली सूचना के मुताबिक यह जुंडली एजेंटो पर दबाव बना कर समझौते के लिए एक संस्था के पूर्व प्रधान का इस्तेमाल कर रही है. माफिया के निशाने पर आने के बाद यही एजेंट उक्त लोगो से पीड़ित एजेंट की सेटलमेंट करवाता है. अब हाल ही में एक मामले में जिस तरह से एक नामी एजेंट से समझौता किया गया है और उसे सार्वजनिक तौर  पर जलील किया गया उससे समझौते के बाद भी इस विवाद में उबाल है. सीज फायर की बात कर वादखिलाफी हुई तो अब पीड़ित एजेंट और उसके समर्थन में आयी एजेंटी की एक लॉबी जल्द ही बस स्टैंड के पास कई कम्पनियो के नाम बदलने वाले एजेंट के सताए स्टूडेंट्स को भी सामने ला सकती है क्योकि इस विवाद के निपटने के बाद आज एक बैठक हुई है जिसमे एक लॉबी ने तय किया है की जो जैसा बोयेगा वैसा ही काटेगा। कुल मिला के इस विवाद को भले ही निपटा हुआ माना जा रहा है मगर हकीकत में आने वाले दिनों में कई सफेदपोश एजेंटो के सगताये स्टूडेंट्स सामने लाये जा सकते है.

 

मुख्य समाचार